Thursday, March 10, 2011

ये लोग - श्रीमती रजनी मोरवाल




शहर की रफ़्तार के मारे हुए हैं लोग |
है ललाटो पर लकीरें 
मुर्दनी मुंह को लगी है,
मंजिलों की चाहतों मैं
खवाहिशें खूंटी टँगी है,

रात-दिन की दौड़ से हारे हुए हैं लोग | 

तंगकूंचों में बसे ये
सीखचों में साँस लेते,
गुर्बतों का दोष सारा
किस्मतों पर लाद देते,

बेबसी से मौन को धारे हुए हैं लोग |

हादसे होते रहे पर
भीड़ तो रूकती नहीं है,
मौत के आगोश में भी
जिंदगी थकती नहीं,

मूक दर्शक से यहाँ सारे हुए हैं लोग | 




http://www.rajanimorwal.blogspot.com

2 comments:

राज भाटिय़ा said...

बहुत ही सुंदर प्रस्तुति !!

anupama's sukrity ! said...

हादसे होते रहे परभीड़ तो रूकती नहीं है,मौत के आगोश में भीजिंदगी थकती नहीं,
मूक दर्शक से यहाँ सारे हुए हैं लोग |

असीम वेदना दर्शाती हुई लाजवाब प्रस्तुति -
बधाई |