Friday, September 4, 2009

सब जगह बिखरा पडा है




लोग तो परेशान हैं कि
जब घर में घुसो देखो
शयनकक्ष से लेकर के
बाहर की बैठक तक
यहाँ वहां सब जगह
सामान बिखरा पडा है
_______________
रातों में नभ निहारो
निशा की रियासत में
सैनिक बन दमक रहे
तारे हैं टिमटिमा रहे
राजा से चन्द्रमा का
प्रकाश बिखरा पडा है
_______________
दुनिया में घृणा देख
व्याकुल हुआ कवि मन
युद्ध की तो कौन कहे
घरेलू मसलों पर ही
इंसानियत मर रही है
खून बिखरा पडा है
_______________
जीवन भी देखो ना
माटी के पुतले में
साँसों का डेरा है
आस का पखेरू है
उसमें भी सपन मेरा
टूटा बिखरा पडा है
_______________



हरि शर्मा

11 comments:

अविनाश वाचस्पति said...

और विडंबना देखिए
चाहकर भी हम
नहीं समेट पाते
बिखरे हुए को
और देते हैं
बिखरा जमाने
भर में
सागर को भर
देते हैं गागर से
हम।

Mithilesh dubey said...

मार्मिक भाव से भरा बेहतरिन रचना।.....

Udan Tashtari said...

बहुत बढ़िया!!

वाणी गीत said...

माटी के पुतले में..सांसों का डेरा है
दिल को छूती मार्मिक रचना..बहुत शुभकामनायें..!!

anju choudhary..(anu) said...

शब्दों की बहुत ही अच्छी अभिव्यक्ति

गरिमा said...

बहुत सुन्दर लिखा है...

M.A.Sharma "सेहर" said...

दुनिया में घृणा देख
व्याकुल हुआ कवि मन
युद्ध की तो कौन कहे
घरेलू मसलों पर ही
इंसानियत मर रही है

सच में ये सब देख कर मन आहत तो ज़रूर होता है

आप का संस्मरण भी पढ़ा....कैसे लगी ये नौकरी
बहुत कुछ नया भी जाना ..मधुशाला के बारे में भी...सुन्दर रचनाएँ !!

श्रद्धा जैन said...

दुनिया में घृणा देख
व्याकुल हुआ कवि मन
युद्ध की तो कौन कहे
घरेलू मसलों पर ही
इंसानियत मर रही है
खून बिखरा पडा है

sab kuch bikhra hua hai
aur sab samet lena chahte hain lekin
kaha mumkin ho paa raha hai

Ulook said...

घर से मरी हुई इन्सानियत ही तो चल के दुनिया को बर्बाद करने पर तुली है ।

वाह

kaafir... said...

wah wah wah wah

kaafir... said...

wah wah wah wah wah wah