Thursday, June 10, 2010

मेरी ब्लॉग यात्रा और नए नए रिश्ते - 2 कल तुमको मैंने एक गीत सुनाया था



कल तुमको मैंने एक गीत सुनाया था
ब्लॉग जगत को थोड़ा थोड़ा भाया था 
कुछ गीत लिखे मैंने फिर इसी ब्लॉग पर ही 
कुछ सुधी जानो ने  दी थी वहा टिप्पणिया भी
उड़न तश्तरी वाले मिले समीर लाल 
तो फुर्सत से  देते कमेन्ट फ़ुरसतिया जी 

अविनाश मिले  नुक्कड़ से जोड़ा हमको भी
थोड़ी चिक चिक के बाद जुड़े सुशील कुमार 
था जोश बड़ा उनको तो अच्छा लिखने का 
पर नयी पोस्टिंग ने उस क्रम को तोड़ दिया 
फिर सूर्यकान्त जी मिले सपत्नी ऑरकुट पर 
हौले हौले वो बढ़ने लगे ब्लॉग पर भी 

इन दिनों पूर्णिमा जी ने कुछ टोपिक देकर 
हमसे कुछ गंभीर  काव्य लिखवा डाला
ऐसे ही अनुराधा जी ने भी दीदी बनकर
दे देकर कुछ  आदेश गद्य लिखवा डाला 
फिर मिले हमें कुछ बड़े ३६ गढ़ी ब्लोगर 
मूछो वाले हैं ललित बने छोटे भैया 

एक पावला जो टाले हर तकनीक बला
मिले अजय झा, लिखें पोस्ट निरंतर ही
राजीव मिले जो बिना तने- जा-ते लिखते
ये दौर था ऐसा जब पढ़ते तो बहुत पोस्ट 
पर ना कमेन्ट ना चटके का था हमें जोश 
इसलिए हमें भी कम ही कमेन्ट मिला करते 

कविता अभी जारी है. अगले अंक मे जोधपुर ब्लोगर मिलन और उसके कारण जुड़े नये ब्लोगर साथियो पर कुछ लिखने की कोशिश होगी. जिनके भी नाम यहाँ आये है वो सभी मेरे लिए बहुत सम्मानित व्यक्ति हैं. मेरे और पोस्ट के खिलाफ कमेन्ट का स्वागत है अगर भाषा ठीक हो.  प्यार बनाए रखिये.           

  

51 comments:

देव कुमार झा said...

शर्मा जी,
बहुत बढिया लिखे हैं....

ई गद्य है की पद्य :)
वईसे लिखा जबरदस्त है.... जोधपुर ब्लागर्स मीट के बाद पूरी कविता का इंतज़ार रहेगा।

कुश said...

तो ब्लोगरो पर कविताये भी रची जा रही है.. बहुत उत्तम है जी

anitakumar said...

yeh kavita toh bahut mazedaar ban rahi hai jaari rakhiye

ajit gupta said...

आपकी यात्रा बदस्‍तूर जारी रहे।

Jandunia said...

इस पोस्ट के लिेए साधुवाद

संगीता पुरी said...

आज का गीत भी अच्‍छा लगा .. जारी रखिए !!

महफूज़ अली said...

बहत बढ़िया... और सार्थक चित्रण किया है आपने....

महफूज़ अली said...

बहत बढ़िया... और सार्थक चित्रण किया है आपने....

Shobhna Choudhary said...

acchi kavita likhi ja rahi hai. agali ka intezaar

राजीव तनेजा said...

आपकी ब्लोगयात्रा ने मुझमें भी जोश सा भर दिया है...कुछ इसी तरह का लिखने को लेकिन यकीन मानिए... मैं इता...ज़रा सा नहीं लिखने वाला
अगली कढी का इंतज़ार रहेगा..चावल मैं घर से लेता आऊँगा :-)

शिवम् मिश्रा said...

तारीफ तो बाद में ......................पहले यह बताइए मेरा नंबर कब आएगा जी ?

बहुत ही उम्दा, दादा ! लगे रहिये !

दिलीप said...

bahutahi badhiya sirji blog jagat ko utaar laaye aap kagaz pe...

shikha varshney said...

ये भी खूब रही

मीनाक्षी said...

आपकी ब्लॉग यात्रा तो काव्यात्मक परिक्रमा का आभास दिला रही है...आगे की यात्रा विवरण का इंतज़ार है...

Udan Tashtari said...

ये नया आयाम है काव्य सृजन का...आनन्द आया, मन को भाया.

Suman said...

nice

आदेश कुमार पंकज said...

बहुत सुंदर

रंजन said...

जय हो...

निर्मला कपिला said...

बहुत बडिया अपकी यात्रा मे हम भी शामिल हो गये। आभार और शुभकामनायें

Dheerendra Singh said...

Bahut badhiya bahut badhiya...

अविनाश वाचस्पति said...

जय हरि हरि
ब्‍लॉगिंग का खंड काव्‍य।

Shekhar Kumawat said...

आभार इस कविता को प्रस्तुत करने का..अच्छी

पोस्ट!तो ब्लोगरो पर कविताये भी रची जा रही है.. बहुत उत्तम है जी

Dr. kavita 'kiran' (poetess) said...

Aapki is blogyatra ke hum bhi sahyatri hain.

rashmi ravija said...

यह कवितामयी यात्रा तो बहुत ही रोचक है...नामों के साथ उनकी विशेषताएं भी बुनी गयी हैं कविता में...बहुत सुन्दर
अगली कड़ी का इंतज़ार है...

H P SHARMA said...

इस कवितानुमा पोस्ट को मिले अपार प्यार के लिये सभी को एक साथ आभार.

H P SHARMA said...

॒ देव कुमार झा -
अब गद्य है कि पद्य है
कि गद्य भीतर पद्य है
या पद्य भीतर गद्य है
भैया सब गद्य-पद्य है

H P SHARMA said...
This comment has been removed by the author.
H P SHARMA said...

॒ कुश
कविता पर ब्लोगर लिखे
पढते बस कुछ लोग
ब्लोगर पर कविता लिखे
पढते है ज्यादा लोग

H P SHARMA said...

॒ अनिता कुमार

मजेदार कविता कहे इसे आप, स्वीकार
यू ही वरसाते रहो, आशीष ये दरकार.

H P SHARMA said...

॒ अजित गुप्ता
देश पराये बैठ के पढी आपने पोस्ट
वादा करते आपसे नही बनेगे घोस्ट

H P SHARMA said...

जन दुनिया ब्लोग के मालिक को मै पहचान नही पा रहा.
उत्साह बढाने के लिये आभार.

H P SHARMA said...

सन्गीता जी आ गयी
है अपना सौभाग्य
ऐसे ही आते रहो
सुधर जायेगा भाग्य

H P SHARMA said...

आये है महफ़ूज़ जी
छोड-छाड सब काम
लाठी-बल्लम साथ है
भली करेन्गे राम

H P SHARMA said...

बहन शोभना आ गई
बढा खूब उत्साह
भगवन इसकी कीजिये
बिना शूल की राह

H P SHARMA said...

जोश भरा राजीव मे
तने जा रहा जीव
लिखो कथा निज ब्लोग की
ठन्डा पानी पीव

H P SHARMA said...

शिवम भाई ये पूछते
कब उनका नम्बर आय
लम्बी है यात्रा बहुत
तू काहे घबराय

H P SHARMA said...

ब्लोग जगत तो नही पर साथी रहा उतार
जो अब तक साथी रहे चुकता नही उधार

H P SHARMA said...

॒ shikha varshney
ब्लोग जगत बहुरूपिया
सबके अपने ढन्ग
बढिया लिखने मे रहा
हाथ हमारा तन्ग

H P SHARMA said...

॒ मीनाक्षी

सभी कर रहे परिक्रमा अपने अपने ढन्ग
हमने न्ही दिखला दिया ब्लोग काव्य का रन्ग

शरद कोकास said...

चलने दीजिये ... हम भी कुछ देर बाद इस यात्रा मे आपके साथ आते हैं ।

H P SHARMA said...

@ Udan Tashtari
जितने ब्लोगर है यहा उतने ही आयाम
जिसकी जैसी सोच है वैसे उसके राम

H P SHARMA said...

Suman said...

बिगुल लोक संघर्ष का दे कमेन्ट बस नाइस
अच्छी हो या बुरी हो रहे एक ही चोइस

H P SHARMA said...

Suman said...

बिगुल लोक संघर्ष का दे कमेन्ट बस नाइस
अच्छी हो या बुरी हो रहे एक ही चोइस

H P SHARMA said...

आदेश कुमार पंकज

अग्रेजी स्कूल मे गणित पढाते आदेश
हिन्दी की कविता रुचे पन्क को विशेष

H P SHARMA said...

॒ रंजन
जय हो का उदघोष है करते रंजन भाई
थोडे से दिन और है हम भी जयपुर जाई

H P SHARMA said...

॒ निर्मला कपिला
कपिला जिनका नाम है निर्मल जिनके भाव
वीर बहुटी सहित सब उत्तम इनके ब्लोग

anitakumar said...

badhiya hai agli kadhi ka intizar hai

दीपक 'मशाल' said...

देर लगी आने में हमको.. शुक्र है फिर भी आये तो....
मजेदार यात्रा है सर.

H P SHARMA said...

Dheerendra Singh
काफ़िर हो उधेडते हो बडे बडो की बखिया
हमको कहते हो बहुत बढिया बहुत बढिया

H P SHARMA said...
This comment has been removed by the author.
H P SHARMA said...

@ अविनाश वाचस्पति

खन्ड काव्य की प्रेरणा देते श्री अविनाश
नीचे धरती थाम ले ऊपर से आकाश