Monday, March 28, 2011

दो दिलो की बात


ना कोई आह ना सिसकना
आँसू की कोई बूँद भी नही
न ही तूफान कोई मन में
नहीं सबसे प्रभावी शब्द हैं
वस ह्रदय से निकली गूँज
यही है एक साधारण सच
**********************************
हक़ीक़त को एक नज़र
देखकर हम कर रहे हैं
एक करें कतरा- कतरा शुरुआत
टूटे जहाज के मलबे यहाँ
रहता है आश्वासन यही
करलो दो दिलों का परिणय

8 comments:

RAJNISH PARIHAR said...

nice thinking....achhi lagi rachna...

masoomshayer said...

रहता है आश्वासन यही
करलो दो दिलों का विवाह

wah bahut achha hai

Ratna said...

Then poem is beautiful, but more beautiful is to live that moment... the memories of life-time... a sense of fulfilment, contentment, an ecstacy...

mehek said...

waah sunder

"अर्श" said...

khubsurat bhav ke saath achhi kavita ... aapke lekhan ke baare me kuchh nahi kahaan hi mere liye sahi hoga , main naachij kya kah skata hun


arsh

Dr. Sudha Om Dhingra said...

आप के ब्लाग पर आई बहुत अच्छा लगा..
खूब लिखते रहें......

Vijay Kumar Sappatti said...

sir ji

prem ki kavita....aur itne sundar aur gahre bhaav .. shabd jaise daastan kah rahe ho...

main chup hoon sharma ji

meri badhai sweekar karen..

regards

vijay
www.poemsofvijay.blogspot.com

राज भाटिय़ा said...

बहुत ही सुंदर प्रस्तुति !!