Monday, July 18, 2011

लड़कियां पतंग उडाती हैं


लडकियां उडाती हैं पतंगे
लेकिन चरखी कोई और पकड़ता है
वो डोर पकड़ती है
पतंग को छुट्टी कोई और देता है


वो पतंग तो उडाती हैं
तंग कोई और ही बांधता है
या वो उडाती हैं
पतंगे जो कटके छत पे आती हैं


उनकी पतंग उडती भी है
आकाश में लेकिन
घरवालेआगाह करते हैं
पेच ना लड़ाने की सीख देते हैं


जो लडकियां पतंग उडाती हैं
तो उनसे ये भी कहा जता है कि
भले कोई ढील दे
तुम्हें अपनी डोर खीचके ही रखनी है


हाँ लड़किया पतंग उडाती है
पर क्या पता उसे आसमान निगलता
या धरती खाती है
शाम होते गगन में आवारा पतंगे रहती हैं

15 comments:

ओम आर्य said...

सही कहा आपने ये लडकियो को दिये जाने वाले संस्कार हैपर पतंग तभी उड सकती है जब ढील दिया जाये................नही तो सम्भव ही नही है.

रंजन said...

उनकी पतंग उडती भी है
आकाश में लेकिन
घरवालेआगाह करते हैं
पेच ना लड़ाने की सीख देते हैं..

हकीकत बयान की है आपने..

vandana said...

bahut sunder lagi ye post ....kuch panktiya uljhi hui jaroor lagi par unme aapke bhav bahut suljhe hue hai jo samajh aa gaye hai ....

gargi gupta said...

bhut achchhi rachna

M.A.Sharma "सेहर" said...

ऊपर से
बहुत साधारण ,सरल सी दिखने वाली बात अन्दर से बहुत गहरायी लिए हुवे ..
awesome !!

vrinda said...

bahotahi achhii Hari

अविनाश वाचस्पति said...

26 जनवरी पर पतंग
अपना तो है हाथ तंग
पतंग आप कह रहे हैं
उडाती हैं लड़कियां
पर
बतलाऊं मैं पतंग ही
कहलाती हैं लड़कियां

फिर जब बनती है
कटी पतंग
तो पतंग पतंग नहीं
रहती
पतंग हो जाती है।

बीनाशर्मा said...

सच कहे तो लड़कियों को पतंग उड़ने कि आजादी नहीं होती हा वे पतंग जरुर बन जाती है अपनी डोर दूसरों के हाथ देकर |सच और कड़वा सच लिखने के लिए आपकी हिम्मत कि दाद देनी होगी

बेचैन आत्मा said...

चलिए आपने लड़कियों से पतंग तो उडवाई...वरना अभी तक तो लड़के ही उड़ा रहे थे..पतंग भी , लड़कियाँ भी..!

Neelam said...

लडकियां उडाती हैं पतंगे
लेकिन चरखी कोई और पकड़ता है
वो डोर पकड़ती है
पतंग को छुट्टी कोई और देता है


वो पतंग तो उडाती हैं
तंग कोई और ही बांधता है
या वो उडाती हैं
पतंगे जो कटके छत पे आती हैं..
katu satya...jise aapne bakhubi kaha..Hari Sharma ji.

Neelam said...

लडकियां उडाती हैं पतंगे
लेकिन चरखी कोई और पकड़ता है
वो डोर पकड़ती है
पतंग को छुट्टी कोई और देता है


वो पतंग तो उडाती हैं
तंग कोई और ही बांधता है
या वो उडाती हैं
पतंगे जो कटके छत पे आती हैं..
katu satya...jise aapne bakhubi kaha..Hari Sharma ji.

H P SHARMA said...

abhaar neelam ji geet kee mool bhaavna ko samajhne ke liye.
jaipur mai aaj din bhar patangvaajee hotee hai. meree astt ne job abhee abhee join kiya hai parso se vo kah rahe ethee sir patang kaise udaa paaungee chhuttee nahee hai aaj ke din to honee hee chaahiye. to maine poochha ki khud hee udaatee ho ya sirf bhai pita kee charkhee pakde rahtee ho. usne kaha ki mai to khud udaatee hoo . mujhe achchha laga.

Vivek Rastogi said...

वाह क्या पतंग के पेंच लड़ाये हैं।

Sonal said...

nice one..
visit my new blog : Unique Storm

गुड्डोदादी said...

पतंग
एक भावना