Wednesday, December 22, 2010

माँ क्यों रोती है ?




एक बालक ने माँ से पूछा माँ औरते रोती क्यों हैं
माँ ने झट जवाब दिया - हम औरत है यूँ रोती हैं
बेटा बोला - माँ तेरा जवाब मुझे समझ नहीं आया
माँ ने पट जवाब दिया इसे तो कोई न समझ पाया


लड़के ने पिता से पूछा कि पापा माँ क्यों रोती है
पिता ने कहा -ये औरतें बिना कारण रोती रहती हैं
लड़का थोडा बड़ा होकर भगवान से ये प्रश्न पूछता है
भगवान् चक्कर मैं पड़े अब उन्हें कुछ ना सूझता है

भगवान परेशान होकर इन्टरनेट कैफे मैं जाता है
जिसको कोई न बताता उसे गूगल- देव बताता है
जब मैंने औरत बनाईं मैंने उसे विशिष्ट बनाया
पूरी धरा का भार उठाने कंधो को मज़बूत बनाया


स्पर्श मैं जादू हो इसलिए उसके हाथ तो नरम बनाए
उसको आतंरिक शक्ति दी ताकि संतान पैदा कर सके
ताकत दी ताकि दुत्कार खाकर भी बह सेवा कर सके
मैंने उसे मृदुलता दी ताकि बह सबसे प्यार कर सके

मैंने उसमे ये समझ पाने की बुद्धिमत्ता भर दी
कि एक अच्छा पति कभी ना हो सकता बेदर्दी
कभी वो जांचता है कि हमेशा ही तुम साथ हो
उसे तुम माफ़ करदो तुम्ही तो उसकी सांस हो


इन सबके बदले मैंने उसे रोने को आंसू दिए
जब जरूरत हो इनसे काम ले जब तक जिए
तुम ये समझो यही उसकी एक कमजोरी है
वरना वो उतनी ही सशक्त है जितनी भोरी है



जब वह आंसू बहाए तो उसे ये अहसास देना
भले रोये उसे बताना कि वो कितनी प्यारी है
रोकर भी उसका दिल ख़ुशी से चहक उठेगा

और तुम्हारा घर भी खुशबू से महक उठेगा,

17 comments:

anitakumar said...

हां हम सशक्त हैं पर इंसान हैं, अकारण नहीं रोतीं, पहले ऐसा कुछ करना कि उसे रोने का कारण ही न देना और अगर देना तो सच में साथ रो कर देखना

HARI SHARMA said...

Bahut Badhiya anita jee aapse itne hee bebaak aur shashakt comment kee yummed thee lekin ye jaroor mahsoos kariye ki mai kavita mai maa ke saath he khada hoo. aur har kavita ka ek message hota hai jo pati aur purush samaaj ko ant mai diya hai aur naseehat bhee. sheershak itna imp. nahee hai jitna aurat ke vyaktitva ka vishleshan, strength aur weakness kee vyakhya, is imp. kavita per pahle comment ke liye hraday se abhaar.

Anuradha said...

bahut achee sovh hai. Ma ke emotions bache hi samajh pate hain. samjahte aur bhi hain lekin bache bun kae hi samajh lete hain.

archana said...

hari ji...
जब वह आंसू बहाए तो उसे ये अहसास देना
भले रोये उसे बताना कि वो कितनी प्यारी है
रोकर भी उसका दिल ख़ुशी से चहक उठेगा
और तुम्हारा घर भी खुशबू से महक उठेगा
bhale roye use batana vo kitni pyari hai.......bahut hi khoobsorat line hai....
lakin ab wat badal gaya hai....
ab aaj ki naaari ko rote huye dekhna mushkil hai....pahele vo
roopwati,gunwati,gyanwati,dhnwati hi hoti thi....lakin ab uske bahut se naye model bhi aa gaye hai.....
archana

manasi said...

ma jab roti hai to wo sirf dukh se hi roti hai aisa kyu samazate hai
wo dukh kabhi nahi dikhati
khushi ke wqat ke aansu wo nahi rokati ye such hai. use agar sukh nahi de sakte to dukh bhi mat dena

hemjyotsana said...

Great poem

Anonymous said...

जब वह आंसू बहाए तो उसे ये अहसास देना
भले रोये उसे बताना कि वो कितनी प्यारी है
रोकर भी उसका दिल ख़ुशी से चहक उठेगा
और तुम्हारा घर भी खुशबू से महक उठेगा
Great poem

2 gud ..........

Kulwant Happy said...

ગહરે વિચારોં સે લબાલબ એક અદ્ભુત કવિતા

वन्दना said...

नारी के जीवन का सुन्दर चित्रण किया है।

Udan Tashtari said...

जब वह आंसू बहाए तो उसे ये अहसास देना
भले रोये उसे बताना कि वो कितनी प्यारी है
रोकर भी उसका दिल ख़ुशी से चहक उठेगा
और तुम्हारा घर भी खुशबू से महक उठेगा

-बहुत सुन्दर!

Shekhar Kumawat said...

bahut khub


ma ke bare me jitna gungan kare kam he

badhai aap ko is ke liye

shikha varshney said...

बहुत सुन्दर ..

राज भाटिय़ा said...

अति सुंदर

Patali-The-Village said...

बहुत सुन्दर|

beenasharma said...

maine aapkee kavita abhi dekhi mai samajh nahi pai yadi purush nari ke maa rup ko itani achchi tarah samajh leta hai to aurato ko aakhir rona kyo padhata hai kya padavi badalate hi aankho me ashru aajaate hai yaa ye uske ke man ki andekhi ke ansu hote hai aur fir pal pal rokar itane kimati aasuo o bahane ki y kaisi jid hai par haa maa patni bahin beti dost kam se kam aise hi nhi roya karati sundar kavita

H P SHARMA said...

Beenaa ji aapke uthaaye prashn naa sirf jarooree hai balki sochne ko bhe baadhya karte hain. maine stree par likhee apnee har kavitaa mai stree ko samagrataa se hee lene kee koshish kee hai aur apnee maa mai duniyaa kee sabhee mataao ko dekhne kee koshish kee hai. kavitaa kaa mool kathya maine bahut pahle kahee padhaa thaa lekin hindi kavitaa ka roop maine hee diyaa hai. mujhe hameshaa aisa lagta hai ki hame agar khud ko sajjan kahalwaane kaa man hai to hamaaraa vaastvik roop sabhee ke liye ek saa hona chahiye. mai mahilaao ko devi roop mai lene ke khilaaf hoo lekin unhe unke guno ke liye aadar karnaa jyada sahee samajhtaa hoo.

kisee ne kahaa hai ki mahilaaye do prakar kee hotee hai yaa to achchee hotee hai yaa bahut achchhee hotee hai, main kya karoo mujhe jeevan mai bhee aur net par bhee bahut see bahut achchee mahilaao se do baat karne ka maukaa milaa hai. jo log mahilaao ko galat samajhte hai ya alag nigaah se dekhte hai ho sakta hai vo durbhagyashaalee rahe ho jeevan mai is sukh se.

mai apne jeevan mai kisee bhee roop mai sampark mai aayee samast mahilaao ko pranaam kartaa hoon.

Rahul Singh said...

संवेदनशील अभिव्‍यक्ति, लेकिन यह परिचय, यह पहचान बदलना जरूरी है.