Friday, March 18, 2011

लो होली आई है - श्रीमती रजनी मोरवाल



                     लो होली आई है

फगुआ के मौसम में मस्ती-सी छाई है |
                    मतवारी बोली है
                    सतरंगी चोली है,
                    यौवन की चुनर भी
                    रंगों में घोली है,
गालों पर है गुलाल ऑंखें शरमाई है |  
                  अंगों में अंगराग
                  मन मेरा फाग-फाग, 
                 जंगल में बिखरी है
                  टेसू की आग-आग,
ऋतुएँ भी भर-भर के पिचकारी लाई है | 
                 होली के आंगन में
                 रंगों के छाजन में,
                 सुध अपनी भूल गई
                 डूब गई साजन  में,
चुप-चुप के अंखियों में प्रीति उतर आई है | 

1 comment:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

सुन्दर रचना!
होली की शुभकामनाएँ!