Monday, February 7, 2011

Ye Kya Hua..(ये क्या हुआ..)

******************************************
ये क्या हुआ, क्यों पाँव मेरे डगमगाने लगे हैं,
ना चाहा था जहाँ फिर वहीँ जाने लगे हैं !!

जिसे भुलाने की कोशिश में खुद को भूल आई हूँ,
क्यों फिर आज वो मुझे इतना याद आने लगे है !!

उसकी यादों के जख्म जो नासूर हो गए हैं,
उसके ख्वाब आ कर उन पर मरहम लगाने लगे है !!

इतनी तनहा हूँ मै गुम खामोश अंधेरों में,
अक्स भी अपने आइनों में धुंधलाने लगे है !!

अब आये हैं वो बहार बन कर ना जाने किस लिए,
जब जिंदगी के दरखत से साँसों के पत्ते झड जाने लगे है !!
******************************************

******************************************
Ye Kya Hua, Kyu Paanv Mere Dagmagaane Lage Hai,
Na Chaha Tha Jahan Fir Wahin Jaane Lage Hai..

Jise Bhulaane Ki Koshish Mein Khud Ko Bhool Aayi Hun,
Kyu Fir Aaj Wo Mujhe Itna Yaad Aane Lage Hai..

Uski Yaadon Ke Jakham Jo Naasoor Ho Gaye Hai,
Uske Khwaab Aa Kar Un Par Marham Lagane Lage Hai..

Itni Tanha Hu Mai Gum Khaamosh Andheron Mein,
Aks Bhi Apne Aaino Me Dhundlaane Lage Hai..

Ab Aaye Hai Wo Bahaar Ban Kar Na Jaane Kis Liye,
Jab Zindgi Ke Darkhat Se Saanson Ke Patte Jhad Jaane Lage Hai..
******************************************

3 comments:

राज भाटिय़ा said...

बहुत ही खुबसुरत रचन जी, धन्यवाद

वन्दना said...

अब आये हैं वो बहार बन कर ना जाने किस लिए,
जब जिंदगी के दरखत से साँसों के पत्ते झड जाने लगे है !!
वाह क्या बात कही है दिल को छू गयी।

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति said...

bahut sundar rachna... aur gazal umdaa